प्रभु का प्रकाश और ध्वनि, प्रेम की एक धारा है। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज