प्रेम इस संसार के बाद भी क़ायम रहता है। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज