प्रभु को आत्मा की सूक्ष्मता में अनुभव किया जा सकता है। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज