हमें हमेशा अपनी ओर से सर्वश्रेष्ठ करना चाहिए। सेवा का पुरस्कार सेवा में ही है, उसके फल में नहीं। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज