हमारे अंदर हर समय प्रभु की मधुर स्वरलहरियाँ गूंज रही हैं। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज