संसार को आरोग्य करने के लिए हमें स्वयं को आरोग्य करना होगा। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज