आत्मा केवल यही चाहती है कि वो प्रभु के प्रेम से घिरी रहे। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज