ध्यानाभ्यास के द्वारा हम देख पाते हैं कि हम शरीर के बिना भी अस्तित्व रखते हैं। — संत राजिन्दर सिंह जी महाराज